असली और नकली दोस्तों को कैसे पहचाने। Real And Fake Friends Hindi - Smart Way

Latest

Become Successful, Be Entrepreneur, Start Make Personality Development, Be Smart Worker Not Hard Worker, Make Your Study Better, Learn Study Tips, Smart Way

Tuesday, May 19, 2020

असली और नकली दोस्तों को कैसे पहचाने। Real And Fake Friends Hindi


नमश्कार दोस्तों, यदि आपको जीवन में सफल आदमी (Successful Person) बनना है तो आपको ये जानना बहुत जरुरी हो जाता है की आपके आस पास के लोग कैसे है और वो आप से क्या चाहते है। क्योकि उन में से कुछ लोग ऐसे होते है जो हमें नुकसान पहुंचाते है और कुछ लोग है जो हमारा फायदा उठाते है।

इसलिए ये जानना बहुत जरुरी है की हम अपने आस पास के नकली और असली लोगो को कैसे पहचाने। तो आज हम आपको 10 वो बाते बताने जा रहे है जिससे आप अपने आस पास के नकली लोगो को पहचान सकते है।



असली और नकली दोस्तों को कैसे पहचाने।How To Identify Fake And Real People And Friends In Hindi



1: वो हमेशा सही Option को चुनता है।


जो भी नकली लोग होते है वो हमेशा सही Option को ही चुनता है। इन लोगो का मानना ये होता है की Life में हमारे साथ कुछ गलत हो ही नहीं सकता। ये हमेशा सही लोगो को चुनते है और जब इनको वो सही मिल जाता है तो उसके बाद ये शांत नहीं रहते बल्कि उससे भी सही ढूंढ़ने की कोशिश करते है।

जब ये अपने दोस्त का चुनाव  करते है तो वो भी सबसे शक्तिशाली दोस्त का ही चुनाव करते है। लेकिन जब इनको अपने पहले वाले दोस्त से भी शक्तिशाली दोस्त मिल जाता है तो वो अपने पिछले वाले दोस्तों को छोड़ देते है। इसलिए इन पर कभी विश्वास नहीं करना चाहिए।



2: उनकी Body Language हमेशा नकारात्मक होती है


Fake लोगो की Body Language आपके सामने हमेशा नकारात्मक होती है। ये जब भी आप से बात करते है तो कभी भी आपसे आँख से आँख मिला कर बात नहीं करते। ये हमेशा खुद को आपसे बचाने की कोशिश करते है।




ये लोग जब भी आपसे कही मिलते है तो आपसे बच कर भागने की सोचते है। आप से बात करते समय ये बार बार अपने आपको Defensive Mode में रखने की कोशिश करते है। जब आपके सामने भी कोई ऐसा ही करने लगे तो आपको ये समझ लेना चाहिए की वो आपसे बात करने में Interested नहीं है।


3: वो आपसे कभी Emotionally Connect नहीं होते।


जो लोग नकली होते है वो कभी भी आपसे Emotionally  Connect होने की कोशिश नहीं करते है। आप जब भी इन लोगो को अपने दिल की बात बताते हो तो ये उसको मज़ाक में ले लेते है। ये आपकी भावनावो की बिलकुल भी कदर नहीं करते है।




ये उन लोगो में से होते है जो आपके दुःखो को तो जान लेते है लेकिन दुसरो के पास जाकर फिर उसका मज़ाक बनाने लग जाते है जिससे आपकी भावनाओ का बहुत मज़ाक बनता है। इसलिए आपको ये पता होना चाहिए की किस को अपने दिल की बात बतानी है और  किसको नहीं।



4: जरूरत के समय कभी काम नहीं आते।


ये उन लोगो में से होते है जो अपने काम के लिए तो आपको हमेशा आगे करेगा लेकिंन जब आपको उसकी जरूरत होती है तो वो आपके काम बिलकुल नहीं आएगा। ये वो लोग होते है जो बस आपने मतलब के लिए ही आपसे दोस्ती करते है।




आपके पास भी ऐसा दोस्त तो जरूर होगा ही जो आपसे हमेशा अपना काम तो निकलवा लेते है लेकिन जब भी आपकी हेल्प की बात आती है तो वो हमेशा बहाना बन लेता है। इसलिए ये जरुरी है की आप ऐसे लोगो से कोसो दूर रहे।


5: वो हमेशा आपकी बातो के खिलाफ होते है।


दोस्तों ये लोग हमेशा आपकी बातो को काटने की कोशिश करते है। आप सही हो या नहीं ये हमेशा आपकी बातो को Ignore ही करते है। ये एक तरह से हमें सदैव ही गलत मानते है और कभी हमारी बातो का Support नहीं करते है।




इसलिए आपको इन लोगो से हमेशा दुरी बना के रखने की कोशिश करनी चाहिए। क्योकि ये ऐसा कर के बार बार आपका समूह के सामने अपमान करते है। ये अपमान आपके अंदर हीन भावना ला सकता है। इसलिए इनको साथ रखने की गलती कभी नहीं करे।


6: हमेशा कुछ कुछ मांगना।


ये लोग हमेशा आपसे कुछ कुछ आशा कर के मांगते ही रहते है। जैसा की हमने आपको बताया की ये लोग अपने मतलब के लिए ही आपको दोस्त बनाते है। इसलिए हमेशा आप से ये आशा लगाए रखते है की आप से वो जो मांगेगा आप उस दे देंगे इस ही कारण वो हमेशा आपसे कुछ कुछ मांगते रहते है।


7: वो आपको कभी सुनना पसंद नहीं करते।


ये लोग कभी भी आपको सुनना पसंद नहीं करते है ये जब आपसे मिलते है तो ज्यादातर ये खुद ही बोलते है। ये आपको बोलने का मौका ही नहीं देते है। ये ऐसा इसलिए करते है क्योकि ये खुद का बोलना तो पसंद करते है लेकिन आपका बोलना इनको बिलकुल पसंद नहीं होता है।


एक तरह से देखा जाये तो ये आप लोगो को सुनना बिलकुल पसंद नहीं करते है।


8: ये बहुत बड़े फेकू होते है।


फेक लोगो को पहचानने की ये सबसे सही और अच्छा तरीका है ये लोग हमेशा आपके सामने लम्बी लम्बी बाते करते है की मे ये कर दूंगा, वो कर दूंगा। में ने ये किया है वो किया है और जाने क्या क्या झूट बोलते रहते है।




ये आपके सामने ही नहीं बल्कि सब के सामने खुद के कारनामो का बखान करते रहते है फिर चाहे उस्सको कोई सुनना पसंद करे या नहीं। इसलिए आप इनको आसानी से पहचान सकते है।


9: ये आपसे थोड़ी थोड़ी बातो से नाराज हो जाते है।


ये लोग आपसे थोड़ी थोड़ी सी बातो में ही नाराज हो जाते है। एक तरह से आप ये भी मन सकते है की ये नाराज होने का तो हमेशा बहाना ही ढूंढ़ते रहते है और जब ये आपसे नाराज हो जाते है तो तब तक आपसे नहीं बोलते जब तक इनको आप से कुछ काम नहीं हो।


10: ये आप से दुसरो की और दुसरो से आपकी चुगलिया करते है।


यदि कोई आपको दुसरो के रहस्य बताता है तो इसका मतलब ये भी हो सकता है की ये आपके रहस्य भी दुसरो को जाकर बताते हो। एक तरह से इस आदत को हम चुगली करना भी कहते है।

ये लोग हमारी बुराई तो दुसरो से करते है और दुसरो की बुराई हमारे पास आकर करते है। ऐसा कर के ये हमें एक दूसरे का शत्रु बनाने की कोशिश करते है।

No comments:

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box