व्यापार के लिए 10 चाणक्य नीति नियम | Chahnakya Niti In Hindi


नमस्कार दोस्तों यदि आप अपने व्यापार में सफल होना चाहते है तो आज हम आपको (Chanakya Niti In Hindi)चाणक्य नीति से सम्बन्ध्ति वो नियम बताएँगे जो की चाणक्य ने बताये है। यदि आपने अपने व्यापार में इन बातो को सही कर लिए तो आप एक सफल व्यापारी(Successful Businessmen) बन जाओगे। लेकिन उससे पहले हम थोड़ा चाणक्य के बारे में जान लेते है।

चाणक्य के पिता का नाम ऋषि चाणक्य था चाणक्य के घर में जन्म लेने पर उनका नाम चाणक्य ही रखा गया। लेकिन चाणक्य की कुटिल चाले उसके दुश्मन तो समझ पाते थे और ना ही दुश्मन उन चालो को भाप पाते थे। अपनी इन्ही कूट नीतियों के कारण चाणक्य को कौटिल्य कहा जाने लगा।

चाणक्य राजनीति और अर्थशास्त्र के बहुत विशेषज्ञ होने के कारण वो आगे जाकर राजा च्नद्र गुप्त मौर्य के सलाहकार बने। आज भी आधुनिक व्यापार प्रबन्ध के प्रिंसपल चाणक्य नीति से मेल खाते है।

आज भी बड़ी बड़ी कंपनिया इन चाणक्य नीति को फॉलो करती है। फिर चाहे वो Apple हो या Samsung हो। जितनी भी कंपनी है वो सब इनको अच्छे से Follow करती है। तो चलिए जानते है क्या है वो चाणक्य नीति टिप्स बिज़नेस(Chanakya Niti For Business In Hindi) के लिए।


10 व्यापार के नियम चाणक्य नीति से। Chanakya Niti Niyam For Business In Hindi



1: Use Fair Language


दोस्तों आचार्य चाणक्य कहते है की जो व्यक्ति गंदी भाषा का प्रयोग करता है वो व्यापार में सफल कभी नहीं हो सकता है और इसको हम एक उदाहरण से समझते है -

एक बार दो व्यापारी थे और वो अपना सामान बाजार में बेचने जाते थे एक व्यापारी का सामान इतना अच्छा नहीं था जितना की होना चाहिए और दूसरे व्यापारी का सामान बहुत अच्छा था लेकिन हमेशा बिक्री उस ही व्यापारी की ज्यादा होती थी जिसका सामान ज्यादा अच्छा नहीं था।


Must Read – What Is MLM In Hindi


ऐसा इसलिए होता है जिस व्यापारी का सामान अच्छा नहीं था उसकी भाषा बहुत अच्छी थी वो जो भी ग्राहक आता उससे हमेशा खुश होकर बात करता था और प्रेम से बात करता था और वही दूसरी ओर जिस व्यापारी के सामान की गुणवत्ता बहुत अच्छी थी वो ग्राहक से सही से बात भी नहीं करता था और हमेशा कड़ी भाषा का उपयोग करता था।




यही कारण था की उसका माल अच्छा होते हुए भी नहीं बिक पता था और दूसरे का माल ज्यादा अच्छा नहीं होते हुए भी बहुत बिकता था।

इसलिए ये बात हमेशा ध्यान रखे की एक व्यापारी को हमेशा अपनी भाषा मीठी रखनी चाहिए। तब ही आप अपने ग्राहक को अपने प्रति Loyal बना पाओगे।


2: Not Be Too Honest


चाणक्य ने हमें बताया है की हमें अपने व्यापार में बहुत ज्यादा ईमानदार नहीं बनना चाहिए। क्योकि चाहे हमारा व्यापार हो या फिर हमारा जीवन। कई बार ज्यादा ईमानदारी भी आपके विनाश का कारण बन जाती है।

यहाँ चाणक्य हमें ये नहीं कहते है की हम ईमानदार ना बने बल्कि ये कह रहे है की हमें ज्यादा ईमानदार नहीं बनना चाहिए।


3: Make Fair Goodwill


कुछ लोगो का उदेश्य व्यापार से बहुत सारा पैसा कमाने का होता है तो कुछ लोगो का उदेद्श्य व्यापार में नाम कमाने का। कुछ लोग पेसो से अपने आपको बड़ा करते है और कुछ लोग अपने नाम से अपने आपको बड़ा करते है।

इसके लिए यहाँ चाणक्य ने कहा है की हमें व्यापार के नाम को बड़ा करने के लिए काम करना चाहिए ही की पैसो के लिए।


क्योकि चाणक्य का ऐसा मानना है की यदि आप पेसो के लिए काम करते हो तो आप कभी नाम नहीं कमा पाते हो लेकिन यदि आप अपने व्यापार के नाम के लिए काम करते हो तो आप को यकीं भी नहीं होगा उतना पैसा आप अपने व्यापार से कमा सकते हो।

क्योकि जब नाम बड़ा हो जाता है तो ग्राहक आपके व्यापार को जानने लगता है और वो फिर आपकी गुडविल बनाने में मदद करता है।


4: Power Of Youth


चाणक्य ने बताया है की हमे अपने व्यापार में समय समय पर नौजवानो (Young People) को भी मौका देना चाहिए क्योकि वो नए लोग अपने साथ काम करने के नए तरीके लाते है और समस्या को हल करने के लिए नई नीतियों का उपयोग करते है।


चाणक्य का कहना है की हमें अपने व्यापार में जो बहुत जरुरी काम है उसके लिए अनुभवी लोगो को रखना चाहिए और जो काम कोई भी कर सकता है उसके लिए हमें नवयुवको को मौका देना चाहिए।


5: Be Danger if You Are Not


व्यापार में हमें बहुत सी बार ऐसे लोगो का सामना करना पड़ता है जो हमारे लिए हानिकारक होते है उसके लिए चाणक्य कहते है की हमें उसका सामना करने के लिए खतरनाक बन जाना चाहिए और यदि आप उसके लिए खतरनाक नहीं बन सकते हो तो आपको उसके सामने खतरनाक बनने का दिखावा करना चाहिए।

ये चाणक्य नीति व्यापार में ही नहीं बल्कि हमारे जीवन में भी उतनी ही जरुरी है। ताकि हमारा कोई गलत फायदा नहीं उठा पाए।


6: How To Win Other


व्यापार में हमें बहुत से लोगो से मिलना पड़ता है और उन से Deal करना होता है। व्यापार में हमें किसी भी Deal को करने के लिए हमें लोगो से बात कर के कैसे उसको जीता जा सकता है ये तो जरूर आना चाहिए।




महान गुरु चाणक्य ने बताया है की व्यापार हो या जीवन की कोई परिस्तिथि यदि हमें लोगो से बात करके उनको सहमत करना आता है तो हम अपने जीवन में भी सफल हो सकते है और अपने व्यापार में भी।


हमे अपने और दुसरो से कैसे अपनी बातो को मनवाना है ये आना चाहिए।


7: Never Share Your Secrets


महान गुरु चाणक्य बताया है की यदि किसी को अपने वश में करना है तो हमें उसके लिए दुसरो के सेक्रेस्ट्स की जरूरत होती है। उसी तरीके से यदि आपके रहस्य भी दुसरो को पता है तो वो आपको अपने वश में कर सकते है।


व्यापार में भी उसी तरीके से आपको अपने व्यापार से संबंधित रहस्य दुसरो को नहीं बताने चाहिए। ताकि आपके व्यापार को दूसरे नक़ल नहीं कर पाए।

क्या आप जानते है की कोका कोला बनाने का जो फार्मूला है वो किसी को पता नहीं है। अभी तक बहुत सारी कम्पनियो ने कोका कोला जैसी ड्रिंक बनाने की कोशिश की है लेकिन अभी तक कोई इसमें सफल नहीं हो पाया है।

और है जिस दिन ये फॉर्मूला किसी कंपनी को पता चला गया तो कोका कोला कंपनी को बहुत नुकसान होगा। तो देखा हमारे और हमारे बिज़नेस के लिए सेक्रेस्टेस कितने जरुरी है।


8: Avoid Negative People


व्यवसाय में उन लोगो को कभी शामिल नहीं करना चाहिए जो नकारात्मक सोच वाले होते है। क्योकि ये लोग आपके व्यवसाय के लिए एक तरीके से दिमग का काम करते है।

इसलिए जब भी आप अपनी संस्था में कर्मचारियों को भर्ती करे तो उसका पहले मनोवैज्ञानिक तरीके से परिक्षण करे उसके बाद ही उसको नौकरी पर रखे।


9: Self Interest


चाणक्य ने इस बात पर सबसे ज्यादा फोकस किया है। इसमें हमें चाणक्य ये बताना चाहते है की व्यापार में यदि कोई हमारी मदद करता है तो कभी ये समझना नहीं चाहिए की उसने हमारी मदद फ्री में की है।


सब अपने कुछ कुछ मतलब के लिए काम करते है और आप भी अपने मतलब के लिए ही दुसरो से काम करवाते है। इसलिए ये जरुरी है की यदि आप की कोई मदद करता है तो आप जाने की वो आपसे क्या चाहता है।


10: Never Be Shy


चाणक्य ने बताया है की मनुष्य को चीजों में कभी शर्म नहीं करनी चाहिए नहीं तो वो जिंदगी भर सफल नहीं हो पायेगा। जिसमे से एक है काम के अंदर हमें कभी शर्म नहीं करनी चाहिए।

दुनिया में कोई काम बड़ा या छोटा नहीं होता है इस बात को समझना चाहिए क्योकि बहुत से लोग तो काम करने में शरमाते है जिसका नतीजा ये होता है की वो बहुत दिनों तक बेरोजगार रहते है।

कुछ लोग ये सोचते है की ये काम मेरे लिए नहीं बना में इस काम को करूँगा तो लोग मेरे बारे में क्या सोचेंगे और जाने क्या क्या सोचते है लेकिन वो कभी अपने बारे में नहीं सोचते की वो यदि इस काम को नहीं करंगे तो उसके ऊपर इसका क्या असर पड़ेगा।

इसलिए आपको ये समझना चाहिए की कोई काम बड़ा या छोटा नहीं होता काम काम होता है जिसको हमें करना है।
व्यापार के लिए 10 चाणक्य नीति नियम | Chahnakya Niti In Hindi व्यापार के लिए 10 चाणक्य नीति नियम | Chahnakya Niti In Hindi Reviewed by SmartWay on March 09, 2020 Rating: 5

No comments:

Please do not enter any spam link in the comment box

Powered by Blogger.